Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Ticker

50/recent/ticker-posts

विश्व विनाश के 10 संकेत-10 Hints of World end in Hindi

 विश्व विनाश के 10 संकेत - 10 Hints of World end in Hindi

जब भी किसी बुराई का या तकलीफ़ का नज़ारा देखते है तो हमारे मन मे एक विचार ज़रूर आता है, की ना जाने 
दुनिया कब खत्म होगी? या "कलयुग का अंत कब और कैसे होगा?" तो आज हम आप के इसी प्रश्न को  10 Hints of World end in Hindi इस लेख द्वारा सुलझाने के लिए मदत करते है। 


10-Hints-of-World-end-in-Hindi


1. प्राकृतिक परिवर्तन

मच्छर तो दुगने Strong हो चुके है, लेकिन अब ऐसे ख़तरनाक कीड़े जन्म ले रहे है, जो कभी आप के पूर्वजों ने देखे भी नही होंगे। अनाज के उगने से लेकर इन्सानों के खाने तक अनेकों किड़ो का आक्रमण हो रहा है। इनसानों से लेकर जानवरों तक हर चीज का संकरित रूप संशोधित किया जा रहा है। जिसके क्वॉलिटी की कोई गारंटी नही है। सबकुछ प्राकृतिक रूप नष्ट रहा है। ये World end के ही लक्षण है। 

2. जन संख्या विस्फोट और खत्म होते संसाधन

दुनिया की जन संख्या पिछले कुछ सालों मे 700 करोड़ के पार चली गयी है। और हर मनुष्य बुध्दिमान होने कारण एशो-आराम के लिए प्राणियों से ज्यादा प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग करता है। परिणामत: गैस, तेल, कोयला जैसे उर्जा संसाधन तेजी से खत्म होते जा रहे है। तनिक सोचों जिस दिन ये सारे के सारे खत्म हो वो दिन कैसा होगा? और वो दिन अब दूर नही। साथ ही ज़मीन की उपजाऊ  ताकत भी खत्म हो रही है। बिना खाद के मिट्टी मे अनाज नही उगता। ज़मीन का सैकडों साल पुराना 400-500 फिट नीचे का भू-जल स्तर भी कम हो रहा है। ये आप फेल हो रहे बोरवेल मे देख सकते हो। अब जब सबकुछ संसाधन कम हो रहे है तो आप को ये दुनिया के विनाश का संकेत नही लगता?

3. विनाश और बीमारीयां World end के लक्षण 

कोरोना जैसी अनेकों महामारी, मनुष्योंका शारीरिक दुर्बल हो जाना, जवान होकर भी 1 घंटा तक भी बिना सहारे नही खड़ा हो पाना, केवल हवा पलटने पर भी सर्दी जुकाम होना, बच्चे के पैदा होते ही अनेकों टिके ( Vaccination) लगाना, फिर भी बड़ी मात्रा मे हार्ट-अटैक, कैंसर शुगर बीपी ये सब महाविनाश के ही संकेत है। महामारी पहले भी आती थी लेकिन इतने सारे प्रकार की एकसाथ पहली बार फ़ैल रही है। कोरोना (COVID19), इबोला, चिकनगुनिआ, बार्ड फ्लू , स्वाइन फ्लू , म्यूकोर्मिकोसिस (Mucormycosis) इत्यादि बहुत सारे।

4. धार्मिक नायकत्व स्थापित करने के लिए खुनी संघर्ष

धर्म शक्तियों द्वारा आपने धर्म की मैजॉरीटी बढ़ाने के लिए बड़े पैमाने पर संघर्ष सामने आ रहा है। जो खून ख़राबे तक पहुँच चुका है। जो संभव हो अलग-अलग हथकंडा अपनाया जा रहा है। इससे हर देश मे Civil war जैसी परिस्थितियाँ उत्पन्न हो रही है। जिसके आगे कभी-कभी देश की राज सत्ता भी विफल होते दिख रही है। यह भी एक विनाश का ठोस संकेत ( Hint of World end) मानना कोई गैर नही होगा। 

5. अणु बम और विनाशक आस्त्र

आज दुनिया मे इतने अणु बम मौजूद है, जिसका अगर उपयोग किया जाए तो ये समस्त पृथ्वी 7 बार नष्ट हो सकती है। और आप ग़ौर कीजिए सभी के सभी पिछले 10 या 20 सालों मे ही बनाये गये है। सोचने की बात है मनुष्य रूपी वैज्ञानिकों को ये प्रेरणा कहां से और क्यों मिल रही है? लेकिन कुछ भी हो यह भी पृथ्वी का विनाश करने वाला संकेत ही है। 
* ये भी पढ़िए 





  6. World Destruction  के प्रति धर्मग्रंथ

लगभग सभी धर्मशास्त्र अलग अलग पध्दती से सृष्टी के महाविनाश का संकेत देते है। कोई विनाश के दुष्कृत्य दिखने लगे तब मैं आता हूँ और नये रूप मे रचना करता हूँ। किसी मे लिखा है क़यामत के समय सब का अच्छे-बुरे, इमान, बेईमान का हिसाब होगा। कोई कहता है भयंकर नैसर्गिक आपत्तियाँ भूकंप, भुखमरी आयेगी और मसीहा के अवतरण से व्यवस्था परिवर्तन होगी। 

7. युग और धातु परिवर्तन 

जैसे-जैसे सतयुग से लेकर कलयुग तक का समय बिता जा रहा था, वैसे सोने के बर्तन मे खाने वाले लोग, चाँदी पर आ गये। चाँदी से फिर तांबा-पित्तल फिर अल्युमिनिअम, लोहा याने स्टील, और अब प्लास्टीक प्लेट, ग्लास चमच से खाने लगे है यह संकेत भी अंतीम समय महाविनाश की ओर इशारा करता है। 

8. दुनिया के अंत के रिश्तों मे लक्षण

परायें लोग अच्छे लगना और अपनों से परायापन, खून के रिश्ते मे भी गहरी दुश्मनी, माँ-बाप का बच्चों के संस्कार पर अनदेखी, बच्चों का मां बाप को बुढ़ापे धुतकारना, विद्यार्थी का गुरूजी के प्रति सम्मान कम होना, भक्तों का भगवान से रिश्ता केवल कुछ मांगने भर का, मुराद पुरी ना हो तो भगवान को भूल जाना और भक्ति मे कमी आदी सबकुछ विनाश के ही संकेत है। 

9. सर्व शास्त्रमयी शिरोमणि श्रीमत भगवत गीता में  संकेत 

भग्वद गीता मे जो विनाश के संकेत वह अभी दिखने लगे है। चहुंओर अराजकता पापाचार भ्रष्टाचार कहीं गुना बढ़ चुका है, व्यक्ति की अकाल मृत्यु अकाल बुढ़ापा आना नारी के सम्मान मे कमी, नारी का लज्जा छोड़ना और काम, क्रोध जैसे विकारों का बढना, तेज़ धूप तीखी बारिश ये सब विनाश के ही दुष्कृत्य है। और हम इसे महाविनाश की शुरुआत के संकेत को जोड़कर देख सकते है 

10. World end नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

महान जर्मन भविष्यवक्ता नास्त्रेदमस जिसकी 6338 भविष्यवाणीयाँ उपलब्ध है, जिसमे से अब तक 70% भविष्यवाणीयाँ सही निकली है। पुर्ण सृष्टि पर आज तक वह एक ही ऐसा व्यक्ति होकर गया है, जिसको सैकडों सालों तक का भविष्य खुली आँखों से दिखता था। किंतु दुनिया के भारी विरोध के कारण उसने सभी को सांकेतिक भाषा मे लिख कर रखा है। इसलिए उसका अर्थ घटना घटीत होने के बाद पता चलता है। जैसे पंतप्रधान इंदीराजी की हत्या, अमेरिका के World Trade Center पर हमला, आदी भविष्यवाणीयाँ घटना के बाद समझ मे आयी है। उनकी भविष्यवाणीयों मे भारत पाकिस्थान के नाम के लिए तीनों समंदर से घिरा हुआ देश, और चंद्रमा के कोर का देश, कुछ इस तरह संकेत दिये है। World end अर्थात पृथ्वी के विनाश के बारे मे उन्होने Global warming से जलवायु परिवर्तन और उससे  होनेवाली प्रचंड प्राकृतिक आपदा भूकंप, धूमकेतु बरसना आदी के बारे मे बहुत से संकेत दिये है। उन्होने अंत मे एक बात कही है की 2035 के बाद मुझे कोई भविष्यवाणी नही दिख रही है। इसे हम दुनिया के महाविनाश के संकेत से भी जोड़कर देख सकते है। 

अंत मे मैं यहीं कहना चाहुंगा मित्रों, आप जो बार-बार सोचते हो, ना जाने ये दुनिया कब डूब जायेंगी? उसका जबाब है बड़ी मात्रा मे मौतें माना दुनिया का डूबना चालू ही तो है! बस हमारा नंबर उसमे ना लगे यही कोशिश करनी होगी। क्योंकि जिस दिन हम मर गये तो हमारे लिए दुनिया ही डूब गयी समझो, मेरी बातें हास्यास्पद भी लग सकती है किंतु ये सच है या नही आप ही बताओ।  निचे कमेंट बॉक्स दिया है अपनी राय ज़रूर बताए। हो सकता है इस विषय पर आपको मुझसे ज्यादा और ज्ञान प्राप्त हो। आशा करता हुं Hindi Hints की आपको 10 Hints of World end in Hindi यह पोस्ट अच्छी लगी होगी। पढने के लिए दिल से धन्यवाद!

नोट: विषय और लेख, लेखक के आपने विचार है, किसी को डराने या चिंता मे डालने के उद्देश्य से नही लिखा गया है। यदि ऐसा होता है तो केवल मात्र संयोग समझे। 

* ये भी पढ़िए 

चेहरे के लिए सौंदर्य टीप्स-Beauty Face Tips in Hindi

अध्ययन के आसान टिप्स-Easy Study Tips in Hindi

रसोई टिप्स Best Kitchen Tips in Hindi 



एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ