Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Ticker

50/recent/ticker-posts

सच्चे प्यार की 12 निशानियां-12 Signs of True Love in Hindi

 सच्चे प्यार की 12 निशानियां-12 Signs of True Love in Hindi

सच्चे प्यार की जाँच के लिए कोई थर्मामीटर तो है नही लेकिन सच्चे प्यार की कुछ निशानियाँ ज़रूर होती है, जिससे प्यार की पहचान होती है। तो आइए जानते है की सच्चे प्यार की 12 निशानियां-12 Signs of True Love in Hindi क्या है?


Signs-True-Love


सच्चा प्यार क्या होता है?-What is True Love?

"प्यार किया नही जाता हो जाता है"

ये लाइन आपने कहीं ना कहीं ज़रूर सुनी होगी, इस लाइन १००% सत्यता है क्योंकि सच्चा प्यार जानबूझकर करने के लिए कोई साधारण बात नही है। गुणों से भरपूर और वासना से उठकर एक दूसरे के प्रति जो आकर्षण भावना होती है, उसे सच्चा प्यार कहा जाता है। जिसकी इतिहास मे अमर गाथाएँ प्रसिद्ध है। हीर-रांझा, सोहनी-महिवाल, लैला-मजनू, देवदास-पारू कितने सारे सच्चे प्यार के उदाहरण अमर हो चुके है। 

ये भी पढ़िए :

सगाई सफ़ल कैसे करें?

पत्नी कैसे संभाले?

बेरोजगार की समस्या 2021


सच्चा प्यार कैसे पता चलता है?

पहली नजर में देखने के बाद दोबारा देखने कि जो कसक परेशान करती है, चैन छीनती है, नींद हराम करती है। वही कसक सच्चे प्यार है। लेकिन आप कहेंगे ऐसा तो वासना वाले प्यार मे भी होता है। आपका कहना करेक्ट है। लेकिन उसमे वासना के साथ कसक भी ठंडी हो जाती है, जबतक वासना पुन: जागृत ना हो। 

तो चलिए अब देर नही करेंगे तुरंत जान लेंगे, 12 Signs of True Love अर्थात सच्चे प्यार की 12 निशानियां 


सच्चे प्यार की निशानियां 

ध्यान से पढे और आप ने प्यार कभी किया है तो उन Signs के कसौटी पर खुद को परख कर देखे, सच्चाई का पता चल जाएगा। 

1. सच्चा प्यार अटूट विश्वास करता है।

सच्चे प्यार मे अपने साथी के वफ़ादारी पर कभी शक नही होता। एक दूजे के लिए जान तक देने को राज़ी रहते है। सच्चे प्यार मे अपने आशिक को छोड़ कर किसी और की कल्पना भी सहन नही होती। अगर मजबूरन एक दूजे से बिछड भी जाते है तो सीधे पागल हो जाते है। तो फिर एक दूजे पर अविश्वास करना कोसों दूर कि बात है। 

2. सच्चा प्यार जीवन के साथ कायम रहता है।

सच्चे प्यार मे चाहे कितनी भी परीक्षाएं ( Exam )आयें वो कभी हार नही मानता। मैने लिखा है "सच्चा प्यार जीवन के साथ कायम रहता है" लेकिन सच्चाई तो यह है कि सच्चा प्यार मृत्यु बाद भी कायम रहता है। भले ही वो किसी को ना दिखे किंतु ज़िन्दा साथी को मरे हुए साथी का नैचुरल अभास होते रहता है, मौत के बाद भी साथ नही छुटता। 

3. सच्चा प्यार सपने संजोता है।

सच्चा प्यार कभी उम्मीद पर नही टीका होता, लेकिन सच्चा प्यार साथी के साथ की उम्मीदों के साथ सुनहरे सपने संजोता है। और उन सपनों मे हर पल अपने साथी को देखता है। 

4. सच्चा प्यार व्यक्ति में बदलाव लाता है।

सच्चे प्यार मे एक आशिक (Aashiq) आपने साथी की हर आदत का खयाल रखता है। और उसको जैसे पसंद आयें उसी तरह का बदलाव अपने आप मे लाता है। उसको हमेशा लगता है कि उसका साथी अपनी किसी आदत से नाराज़ ना हो, और अपने जितना ही वो भी प्यार करे। 

5. सच्चा प्यार निस्वार्थ होता है।

सच्चा प्यार करने वाला व्यक्ति स्वयं अपने आशिक ( Lover ) कि हितों को लेकर चिंतित रहता है, इसलिए लालच और स्वार्थ उसके मन मे कभी नहीं आता, वो जरूरत पड़ने पर अपना सबकुछ त्याग करने के लिए भी तैयार होता है। 

6. सच्चे प्यार वाले नफरत नहीं करते।

सच्चा प्यार व्यक्ति के जीवन की वो बला है, अगर एक तरफ़ा भी हो जाए और जिसको दिल दे बैठे वो नफरत भी करे, बार-बार लताडे भी तो वो अपनी चाहत से कभी नफरत नही करता। उसके मिलने का जिन्दगी भर इंतजार करता है। किंतु उसे कभी नही भूलाता। और कभी उसका बुरा नही सोचता। नफरत तो छोड़ो उसके लिए दुआयें मांगता है वो जहाँ भी रहे खुश रहे। 

7. True Love निर्मल होता है।

सच्चा प्यार इतना साफ होता है कि, उसमे एक क्षण भी किसी कारण कमी नहीं आ सकती। दिन हो या रात, जागते हो या सपने मे, हर वक्त Lover उतना ही प्यार करता है। क्योंकि वो दिल का मामला होता है। और सच्चे प्यार वालों का दिल एकदम साफ होता है। सभी भी धोका देने की चाह मन मे उत्पन्न नहीं होती। 

8 सच्चा प्यार वासना से परे होता है। 

सच्चे प्यार की एक यही निशानी ( Signs) बनावटी प्यार मे नहीं होती। शरीर आकर्षण  मे किया गया प्यार कभी अंत तक नही साथ देता। शरीर के इच्छा के साथ एक दिन वो भी मर जाता है। लेकिन True Love मे वासना कि कोई गुंजाईश नही। क्योंकि मामला शरीर से नहीं दिल से जुड़ा होता है। 

9 सच्चे प्यार मे शिकायत नही होती। 

सच्चे प्यार मे शिकायत की कोई बात नही होती। क्योंकि इसमे दूर-दूर तक बेवफ़ाई के आसार नहीं होते। और जहाँ मजबूरी से मिलाप नही हो पाता, वहाँ समझदारी से जीते है लेकिन एक-दूजे से कोई शिकवा नहीं करते, जहाँ बेवफ़ाई नज़र आती है समझ लेना प्यार सच्चा था लेकिन एक तरफ़ा था। सच्चा प्यार कभी शिकायत का मौका नहीं देता। 

10 सच्चे प्यार मे ईर्ष्या नजर नहीं आती। 

सच्चे प्यार पर जमाना जलता है। लेकिन सच्चा प्यार करने वाले कभी जमाने पर जलते नही। प्यार करनेवाले Lovers अपने आप मे खुश रहते है। ईर्ष्या तो दूर उन्हे दुनिया कि फ़िक्र भी नहीं होती। 

11 सच्चे प्यार मे आत्मविश्वास और साहस बढ़ता है।

जिस किसी को सच्चा प्यार हो जाता है, उसका आत्मविश्वास कहीं गुना बढ़ जाता है। और इसी आत्मविश्वास के चलते साहस भी बढ़ता है। दुनिया लाख चाहे कोशिश कर ले सच्चे आशिक एक दूजे को नहीं छोड़ते, एक दूजे के लिए सारी दुनिया से लढ पड़ते है, मौत से भी नही डरते। 

12 सच्चा प्यार आशिक का सम्मान करता है

सच्चा प्यार अपने आशिक का हमेशा सम्मान करता है, उसे कभी अपमानित होते नहीं देख सकता। आपने आशिक को एक चोट भी बर्दाश्त नहीं करता। फिर चाहे वो शरीर पर लगे या दिल पर अपना आशिक ही उसकी दुनिया होती है। तो वो उसपर अपमान का प्रहार कैसे होने देगा?

सच्चे प्यार की 12 निशानियां पढने के बाद ज़रूर आप को सच्चे प्यार के बारे ये पता चल गया होगा, की असल मे उसकी बुनियाद क्या है? सच्चे प्यार मे किन बातों का एहसास होता है। 

मित्रों और भी बहुत सारी निशानियां ( Signs )है सच्चे प्यार की, किंतु सबको एक Artical मे लिखेंगे तो वह बहुत बड़ा हो जाएगा। इसलिए आज के लिए  इतना ही बस्स। 

आशा करता हूँ कि Hindi Hints की सच्चे प्यार की 12 निशानियां-12 Signs of True Love यह पोस्ट पढ़कर, आप को प्यार के बारे मे काफी जानकारी मिल गयी होगी। पोस्ट पसंद आयें तो नीचे कमेंट बॉक्स मे अपनी राय ज़रूर लिखना। पढने के लिए आपका दिल से धन्यवाद!

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ