Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Ticker

50/recent/ticker-posts

3 टाइम खाने से स्वास्थ्य लाभ-Health benefits of Eating 3 times in Hindi

3 टाइम खाने से स्वास्थ्य लाभ-Health benefits of Eating 3 times in Hindi

मित्रों हमे आरोग्य ज्ञान कहता है भोजन मे कम से कम 6 घंटे का अंतर होना ही चाहिए। अर्थात हम सुबह अगर 8:00 बजे नाश्ता करते है तो 2:00 बजे दोपहर का भोजन और रात का 8:00 बजे होना चाहिए। इसमे एखाद घंटा आगे पिछे भी चलेगा, लेकिन ज्यादा अंतर ना हो तभी हमारे शरीर को इसका लाभ मिलेगा। तो चलिए हम आज देखते है की 3 टाइम खाने से स्वास्थ्य लाभ-Health benefits of Eating 3 times in Hindi तीनों को अलग अलग। 


Health-Benefits-Breakfast-Lunch-Dinner-Hindi


दिन में 3 टाइम खाने से स्वास्थ्य लाभ-Health benefits of Eating 3 times a day in Hindi

मनुष्य जब उदास एवं अप्रसंन्न महसूस करता है तो कुछ ना कुछ खा कर दिल बहलाता है मतलब खाने मे से आनंद प्राप्त करने की कोशिश करता है। इसके लिए वह दिन भर कुछ ना कुछ चबाते रहता है और परिणाम स्वरूप मोटा और भद्दा बन जाता है। और अनेक बिमाियों का शिकार भी बन जाता है। इसलिए हम आज दिन मे खाने के उचित समय पर खाना खाने से कैसे तंदुरूस्त रह सकते है और कैसे (Health benefits of Eating 3 times in Hindi ) तीनों टाइम खाने से अलग-अलग फायदे मिलते है आगे जानेंगे स्टेप बाय स्टेप

स्वास्थ्य लाभ के लिए नाश्ता-Breakfast for Health benefits in hindi

मित्रों सुबह दिनचर्या का शुभारंभ होने के समय Fresh mind के साथ आपको उर्जा देनेवाला नाश्ता अगर मिल जाये तो काम के लिए फुर्ती और अधिक आती है। 

कुछ लोग चाय और ब्रेड को नाश्ता बना लेते है, जो सेहत के लिए बेहद हानिकारक है। बागानों की असली चाय पत्ती मे कलर के लिए मिले केमिकल को दूध मे मिलाकर पीने के बाद Acidity हो जाती है। और ब्रेड के लिए उपयोग किया गया बिना फायबर वाला महीन आटा पेट की आतों के चिपक जाता है। इसलिए सहज हजम नही होता। इसलिए हमेशा Breakfast सेहत को ध्यान मे रखकर करने से विभिन्न Health benefits होते है। नाश्ते मे Calcium, Fibber और Protein मिले इस बात को ध्यान मे रखकर फल, हारी सब्जी, दूध, अंडे, अंकुरित धान्य आदी खाने चाहीए। 

नाश्ता नाश्ता करने से तनाव कम होता है, जिसके कारण मन कि एकाग्रता भी बढती है। जिसका काम और उन्नति मे बड़ा फायदा होता है। आपको सुबह के फ्रेश मन को दोपहर तक कायम रखने मे मदद करता है। दोस्तों हमे नाश्ता नहीं करने से होने वाले नुकसान पता चलेंगे तो नाश्ता करने के फायदे समझ आयेंगे। अगर नाश्ता नहीं किया गया हो तो तो थकान, सिर दर्द और शुगर लेवल के अनियंत्रित होने के कारण कमज़ोरी महसूस होती है। 

अक्सर तज्ञ लोग डायट करने वालों को भी नाश्ता ना छोड़ने की सलाह देते दिखते है। क्योंकि एक बात पता चली है कि नाश्ता ना करने पर मोटापा भी बढ़ता है। मोटापा बढ़ता है या नहीं पता नहीं लेकिन नाश्ता न करने पर दोपहर तक व्यक्ति कुछ ना कुछ चबाता है। जिसके कारण फैट बढ़ता है। जिसके कारण Cholesterol बढ़कर Heart Attack कि आशंका बढती है। संतुलित मात्रा मे Breakfast करने से रोग प्रतिकारक शक्ति बढती है। और अनेक रोगों से मुक्ती मिलती है, अक्सर नाश्ता ना करने वालों से नाश्ता करने वाले ज्यादा Health benefits है, वो तंदूरूस्त होते है। दवाखाने के चक्कर कम हो जाते है। 


ये भी पढ़िए :

स्वास्थ्य लाभ के लिए दोपहर का भोजन-Lunch for Health benefits in hindi

दोस्तों सुबह और रात का भोजन भले छूट जाए लेकिन दोपहर का भोजन 99% लोग नहीं छोड़ते। इतना ही नहीं एक टाइम भोजन का उपवास करने वाले लोग भी दोपहर मे ही भोजन करते है। दोपहर का मतलब है 12:00 बजे के बाद। पहले घडियाँ नहीं थी। तो दिन की गिनती "पहर" पर होती थी। जिसे "प्रहर" भी कहते है। खैर छोड़े 

लेकिन Lunch शरीर के विकास मे काफी मददगार होता है। शरीर का आवश्यक मटेरियल यानी खून, हड्डी, माँस इसी भोजन से विकसित होता है। क्योंकि यह एक पुर्ण भोजन होता है। Breakfast और Dinner दोनो हल्की मात्रा मे खाये जाते है। क्योंकि एक सोने से पहले और एक जागने के बाद होता है। किंतु डिनर हमारे निजी काम के बीच मे आता है जिसे आधा दिन काम करने के बाद किया जाता है। और खाने के बाद आधा दिन काम करते है यानि शरीर की पुरी हलचल होती है Lunch के बाद 5 मिनट कि एक नींद बहुत फ़ायदेमंद होती है। जिसे मराठी मे डुलकी, संस्कृत मे वामकुक्षी और हिन्दी मे झपकी कहते है। केवल 3-4 मिनट मे दिमाग विश्राम के लिए डेल्टा स्थिती मे चला जाता है। जिसके कारण एकदम Fresh होती है। ये झपकी कहीं बैठे-बैठे भी ले सकते है। सिर्फ गाड़ी चलाते समय छोड़कर। 

वैसे खाने के बारे मे हर तज्ञ कि भिन्न भिन्न राय है। लेकिन मेहनत काम करने वाले व्यक्ति को दोपहर मे भरपेट खाना ही जरूरी है। फलों वगैरह से काम नही चलता। किसान भी धूप के सर पर आते ही अपनी रोटी छोड़कर बैठ जाता है। ऑफिसों मे लोग Lunch box लेकर जाते है। जीन लोगों को दोपहर का खाना नही मिलता, वह दुबले पतले एवं कमजोर बनने लगते है। इसलिए सुबह शाम से ज्यादा दोपहर का खाना सेहत के लिए बहुत फ़ायदेमंद हैं। उससे बहुत सारे Health benefits मिलते है। 

स्वास्थ्य लाभ के लिए रात का भोजन-Dinner for Health benefits in hindi

कहते है लंबी आयु का राज रात मे जल्दी खाने और समय पर सोने मे है। वैसे तो  Dinner का सही टाइम शाम 6:00 से 7:00 बजे के बीच होना चाहिए। किंतु गतिमान जिंदगी मे समय नही मिलता। इसलिए Office से देर से लौटने वाले लोगों को भी रात 10:00 बजने के पहले भोजन कर लेना चाहिए। जैसे दोपहर के खाने के बाद झपकी जरूरी है वैसे रात के खाने के बाद 10-15 मिनट Walking बेहद जरूरी है। क्योंकि शरीर के सीधे विश्राम मे चले जाने से पहले उद्यपित जठर अग्नि (Gastric fire) मे तेजी लाने के लिए कुछ हलचल जरूरी होती है। जिससे  Digestion process शुरू होने मे मदत मिलती है। 

दूसरी बात खाकर तुरंत सोयेंगे तो शरीर काम करना बंद होने कारण उर्जा कि कम लागत होती है। तथा उर्जा का चरबी के रूप मे शरीर में संचय होता हैं। और मोटापा बढ़ने लगता है। खाने के बाद कुछ घंटों तक Left side कर्वट लेकर सोना चाहिए। क्योंकि जठर का Output इसी दिशा मे होता है। जिससे खाना पाचन के लिए अतडियों मे खिसक ने के लिए मदद मिलती है। रात मे काम ना होने कि वजह से हमेशा पाचन मे हल्का भोजन लेना चाहिए मसालेदार, तला हुआ बिल्कुल नही खाना चाहिए। रात मे ओवर टाइम करने वाले लोगों को 99% एसिडिटी के चांस होते है। इसलिए Dinner या तो शाम के 6:00 बजे कर लें, या एकदम हल्के भोजन को 3-4 हिस्सों मे बांट कर थोड़ा-थोड़ा खाना चाहिए। जिससे नींद भी नहीं आएगी और पाचन भी होगा।

 अगर भरपेट दबाकर खाया है तो शरीर का ज्यादा खून पाचन तंत्र कि तरफ काम मे लगने से दिमाग थकान महसूस करता है। और नींद आने लगती है। ऐसे मे Night duty करना लगभग नामुमकिन हो जाता है। तो अब आप अच्छी तरह समझ गये होंगे कि  Dinner अर्थात रात का भोजन स्वास्थ्य के लिए किस प्रकार लेना चाहिए जिससे लाभ होगा। 

आशा करता हूँ भाई-बहनों आपको Hindi Hints की यह 3 टाइम खाने से स्वास्थ्य लाभ-Health benefits of Eating 3 times in Hindi पोस्ट ज़रूर पसंद आयी होगी। और कुछ नया पढने को मिला होगा ध्यान से पढने के लिए दिल से धन्यवाद!

ये भी पढ़िए :


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ