Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Ticker

50/recent/ticker-posts

टेस्ट ट्यूब बेबी क्या है? - What is Test tube Baby? in Hindi

टेस्ट ट्यूब बेबी क्या है? - What is Test tube Baby? in Hindi

हिन्दी हिन्टस् की इस पोस्ट मे आप मनुष्य के प्रजनन प्रक्रिया मे टेस्ट ट्यूब बेबी क्या है?-What is a Test tube Baby? अर्थात वैज्ञानिक मदत के बारे मे जानेंगे...


Test-tube-Baby-kya-hai


किसे कहते है टेस्ट ट्यूब बेबी? - Who is called Test tube Baby?

IVF अर्थात In vitro fertilization यह एक संतान प्राप्ती के लिए की जानेवाली संशोधित उपचार पध्दती है। जिसे हम आमतौर पर टेस्ट ट्यूब बेबी नाम से जानते है। वास्तव मे बच्चा गर्भाशय मे ही पूर्ण रूप से विकसित होता है, किंतु स्री की अंडबिज जिसे हम अंडाणु कहते है और पुरूष के शुक्रबीज इनका एक दूसरे से मिलाप होकर जो फलन प्रक्रिया होती है, वो किसी कारण वश शरीर मे  नही हो पाता तो उनका फलण अस्पताल के प्रयोगशाला मे डॉक्टर द्वारा किया जाता है, और फलन प्रक्रिया पुर्ण होते ही इसे गर्भाशय मे रखा जाता है। इसीलिए इसे Test tube Baby बेबी कहा जाता है। 
1978 मे ब्रिटेन मे लुइस नाम की लड़की को इस उपचार से गर्भवती किया गया था, कोई भी डॉक्टर इस उपचार को अंतिम पर्याय नही मानते इसके पहले बच्चा प्राप्ती के हरसंभव जाँच तथा उपचार किया जाता है। और जब कोई मार्ग नही बचता तो आप से टेस्ट ट्यूब बेबी उपचार के लिए पूछा जाता है। 

टेस्ट ट्यूब बेबी और आम धारणा

हमारे समाज मे कही लोग इस तरह के बच्चे को स्वीकारने के लिए तैयार नही होते। 
वास्तव मे Test tube Baby बेबी एक गर्भधारणा का वैज्ञानिक आधार है। इसमे पती और पत्नी के शरीर से आवश्यक अंश लेकर ही माँ के गर्भाशय (Uterus) मे बच्चे को जन्म दिया जाता है। बस किसी दोष मात्र से ही संभोग के बाद भी पती-पत्नी दोनों के अंश यानी अंडाणु और शुक्राणु का मेल नही हो पाता, इसलिये इनका मिलाप प्रयोगशाला मे किया जाता है और गर्भाशय मे छोड़ा जाता है अंतत: बच्चा तो आपका ही होता है। 
कुछ मामूली केसेस होते है जिसमे अंडाणु या शुक्राणु के दाता की जरूरत पड़ती है। लेकिन डॉक्टर ये हमे बिना बताये नही करते, इसकी पुरी जानकारी देकर अनुमति हो तो ही कुछ पेपर्स पर साइन लेकर इस प्रक्रिया को अंजाम देते है। 

टेस्ट ट्यूब बेबी की प्रक्रिया-Test tube Baby process

इस प्रक्रिया मे पहले कुछ दवाई देकर स्त्री के मासिक धर्म के समय को डॉक्टर द्वारा नियंत्रीत किया जाता है। जब स्त्री के अंड बीज बनना शुरू हो जाते है तो उसे विशेष तकनीक से बिना किसी ऑपरेशन के Sonography द्वारा निकाल लिये जाते है, उसी समय स्त्री के पती के वीर्य को भी लिया जाता है जिस मे शुक्राणु होते है। 
जीसे युवरोलॉजिस्ट डॉक्टर की देखरेख मे फलण कि लिये रखते है। कंही बार शुक्राणुओं को अंडे के अंदर माइक्रो इंजेक्शन द्वारा भी छोड़ा जाता है। तीसरे दिन जो भ्रूण (Fetus) तैयार होते है उसे  बिना किसी ऑपरेशन, चीरफाड के महिला के गर्भाशय मे प्रत्यारोपीत किया जाता है। प्रत्यारोपन के एक घंटे बाद महिला घर भी जा सकती है। और आगले 15 दिन बाद महिला के खून की जाँच की जाती है जिसमे पता चल जाता है की, सफल हुए है या नही? इस बीच महिला को संपूर्ण रूप से तनाव मुक्त रखा जाता है। 
बाकी समय पर दवाई लेना, संतुलित अहार लेना, किसी भी व्यसन से दूर रहना आदि सुचनायें Doctors के द्वारा दियी जाती है

टेस्ट ट्यूब बेबी खर्चा और सफलता

पहले टेस्ट ट्यूब बेबी प्रक्रीया मे बहोत खर्चा आता था लेकिन अब विज्ञान आगे बढ रहा है तो 1 से 1.5 लाख रूपये तक का खर्चा आता है। इसमे अस्पताल के सुविधा अनुसार थोड़ा बहुत उपर नीचे हो सकता है।
पती-पत्नी 35 उम्र के अंदर होने पर 70% सफलता की संभावना होती है, 35 से 40 के बीच उम्र वालों मे ये संभावना 25% से 35% तक देखी गयी है, और 45 उम्र के बाद ये 20% ही संभावना रह जाती है। 

आशा करता हूँ की टेस्टट्युब बेबी के बारे मे प्राथमिक जानकारी आप को मिल गयी होगी। इससे ज्यादा जानकारी के लिए आप संबंधित डॉक्टर के पास जा सकते है। Hindi Hints कि ये टेस्टट्युब बेबी क्या है?-What is a Test tube Baby? पोस्ट पढ़ने के लिए दिल से धन्यवाद! आप अपनी रे कमेंट बॉक्स में ज़रूर लिखना। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ