Header Ads Widget

Ticker

50/recent/ticker-posts

नाश्ते में पोहा खाने के फायदे | Benefits of Eating Poha for Breakfast in Hindi

नाश्ते में पोहा खाने के फायदे | Benefits of Eating Poha for Breakfast in Hindi

जब खाना तैयार ना हो तो अपनी भूख को १० मिनट मे झटपट शांत करने का एकमात्र स्वादिष्ट उपाय Poha है। पोहा नास्ते का सबसे शॉर्टकट उपाय तो है ही लेकिन साथ मे बेहद आरोग्यदायी है। नाश्ते में पोहा खाने के फायदे | Benefits of Eating Poha for Breakfast तो चलिए देखते है। 


Poha-Breakfast-Benefits


पोहा के प्रकार (Types of Poha)

मुझे यकीन है कि आप इस लेख को पूरा पढने के बाद ज़रूर दुकान से नियमित खाने के लिए ज्यादा पोहा खरीद कर लायेंगे। और भाभीजी को अलग-अलग स्वादिष्ट प्रकार मे Breakfast बनाने को कहोगे। मुझे तो निंबु निचोड़कर कच्चे प्याज़ के साथ पोहा खाना बहुत अच्छा लगता है। या फिर खट्टे आचार के साथ। 

हम Poha के Benefits से पहले प्रकार की बात करेंगे तो हमे कच्चा पोहा और पका हुआ पोहा दोनों के बारे मे जानकारी प्राप्त होना जरूरी  है। 

कच्चा पोहा :- कच्चा पोहा मे साइज के हिसाब से और गुणवत्ता के हिसाब से बहुत प्रकार मौजूद है। जैसे पतला पोहा चिवडा बनाने के लिए, जाडा पोहा, मेडिअम पोहा उसमे भी क्वॉलिटी होती है। कुछ तुरंत भिगोकर बनाने वाले कुछ 15 मिनट तक। कोई एकदम नरम बनते है कोई कडक चबा-चबाकर खाना पड़ता है। इसके अतिरिक्त नाइलॉन पोहा, नायलॉन पापड़ पोहा जो तलके खाने के लिए होता है। 

शायद पोहा का अर्थ पिचके हुए दाने होता होगा क्योंकि कुछ भागों मे बुट्टे के दानों को पिचकाकर जो बनाया जाता है उसे भी कॉर्न पोहा कहते है। पॉपकॉर्न (Popcorn)के बाद लोग इसे ही पसंद करते है। 

पकाया हुआ पोहा :- मुझे जहाँ तक पता है पोहे अनगिनत प्रकार के बनाये जा सकते है कुछ सब्जी वाले मेथी पोहा, हार धनिया पोहा, पालक पोहा कुछ मसाले वाले पोहे सेंकडो प्रकार के बनाये जा सकते हैं। उन मे भी पुरे देश मे आम तौर पर कांदा पोहा, लहसुन पोहा और दही पोहा बहुत प्रसिद्ध है। इतना ही नहीं इसकी Specialty से कुछ हॉटेल मालिकों ने बहुत नाम कमाया है। 

ये भी पढ़िए :



पोहा की ख़ासियत (Poha's Specialty)

पोहा के Porridge, Oatmeal, आदि से अपनी अलग खासियत है। सबसे Healthy breakfast है। 

  1. कम तेल मे भी झटपट तैयार। 
  2. किसी भी सब्जी के साथ स्वादिष्ट। 
  3. किसी भी मसाले के साथ स्वादिष्ट। 
  4. सैकडों प्रकार से बना सकते है। 
  5. भूख को कंट्रोल करता है। 
  6. लंबे समय तक एनर्जी देता है। 
  7. मोटापा कम करता है। 
  8. पाचन तंत्र सुधारता है। 
  9. मधुमेह वालों के लिए खास नाश्ता। 
  10. हीमोग्लोबिन कम नही होने देता 

इसके अतिरिक्त और भी बहुत से आरोग्यदायक गुणधर्म (Healing properties)और Benefits इस मे मौजूद है जिन्हे हम एक-एक करके विस्तार आगे जानेंगे। 

पोहा खाने के क्या फायदे है?

हम ने यह पोस्ट आप को पोहा खाने के विशेष फायदे बताने के लिए ही लिखी है।  तो कुछ इस प्रकार है पोहा खाने के फायदे !

Poha से Energy 

पोहा से एनर्जी तो मिलती है लेकिन हमें ये जानना जरुरी है की "पोहे में कितना प्रोटीन होता है?"

पोहा मे कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, आयरन, पोटेशियम, विटामिन ए, विटामिन सी और डी भरपूर मात्रा में होता है।Carbohydrates की कमी की वजह से व्यक्ती को ज्यादा थकान और कमज़ोरी महसूस होती है लेकिन पोहा मे कार्बोहाइड्रेट्स भरपूर मात्रा मे उपलब्ध होता है, जिसकी मात्रा 76.9 फीसदी है। और प्रोटीन 23.1 फीसदी होता है। 

Breakfast के बाद पोहा शरीर को लंबे समय तक एनर्जी देता है और भूख नही लगती। Poha से भूख नहीं लगने का एक और कारण है। वह पानी के साथ पेट मे जाने के बाद फुलता है तथा 1 प्लेट खायेंगे तो पेट मे फुलकर  2 प्लेट की जगह लेता है। जिससे घंटो तक पेट भरा-भरा सा लगता है भूख नहीं लगती। और व्यक्ति एनर्जी महसूस करता है। 

मोटापा घटाने में मददगार
(Helpful in reducing obesity)

बहुतों के मन मे ये सवाल आता है की "क्या पोहा खाने से वजन बढ़ता है?

पोहे की कैलोरी मात्रा एक कटोरी मे लगभग 206 इतनी कम कैलोरी होती है। और इसमे फाइबर तथा आयरन  भरपूर मात्रा मे होता है। अगर आप को वजन घटाना है तो पोहा मे मुंगफल्ली और आलू आदी की जगह प्याज़ टमाटर जैसी अन्य कम कैलरी वाली सब्ज़ियाँ डाले। इसी प्रकार से नियमित पोहा खाने पर भी मोटापा नही बढ़ता बल्कि बॉडी एकदम सेप आकार मे रहने के लिए मदद मिलती है। पोहे में इंसुलिन (Insulin) नही होने के कारण  वजन घटाने में काफी हद तक मददगार साबित हुआ है। 

पाचन तंत्र मे मदद करता है पोहा

पोहा एक हल्का और फाइबर युक्त अहार होने की वजह से पाचन तंत्र संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए अहम भूमिका निभाता है। यह आंतो और पाचन तंत्र को साफ रखने मे काफी मददगार है तथा यह शरीर मे पहुँचने के बाद लंबे समय तक धीरे-धीरे पाचन होता है और लंबे समय तक उर्जा भी देता है। आसानी से पचने के कारण पेट के रोगी के लिए यह Benefits वाला अर्थात फ़ायदेमंद है। ग्लूटोन की मात्रा इसमे कम होने की वजह से डॉक्टर पेट के रोगी को Poha खाने की सलाह देते है। 

डायबिटीज में लाभदायक (Beneficial in Diabetes)

भारत के बहुतांश लोगो ने यह भी प्रश्न किया है की "क्या डायबिटीज में पोहा खा सकते हैं?"

मधुमेह (Diabetes) की बीमारी वाले लोगों को हर चीज खाने से पहले १०० बार सोचना पड़ता है की यह शुगर लेवल को बढा दिया तो क्या होगा? लेकिन पोहा के बारे मे इस तरह की चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं इसे नाश्ते मे बिना सोचे बेशक खा सकते है। इसमे मौजूद फाइबर से खून मे की चीनी की मात्रा को नियंत्रित करने मे सहाय्यक होता है। इसको कम तेल के साथ मेथी जैसी हारी सब्ज़ियाँ मिलाकर बनाये और नियमित खाये तो रक्त मे शर्करा के बढते स्तर को रोकने मे मदद मिलती है। Breakfast मे पोहा डायबिटीज़ मरीज़ों के वरदान ही समझिए। 

हड्डियों को मजबूत बनाने मे मददगार

एक अध्ययन के अनुसार पोहा में मौजूद खनिज पदार्थ आप के हड्डियों को मज़बूती प्रदान करने मे सहाय्यक है। बस पोहा दही के साथ नियमित Breakfast में खाना होगा इससे हड्डियों को बड़ा लाभ पहुँचता है। 

आयरन (HB) की कमी पुरी करता है। 

महिलाओं मे अक्सर एनीमिया या खून की कमी देखने को मिलती है। खास कर गर्भ अवस्था के समय मे। पोहा शरीर मे रक्‍त कोशिकाओं की उत्‍पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। क्योंकि इसमे आयरन की मात्रा काफी अधिक होती है। इससे हीमोग्लोबिन तथा इम्यूनिटी पावर बढ़ती है। 

अहार के विशेषज्ञों का मानना है कि सबसे सेहतमंद नाश्ता अगर कोई हो सकता है तो वह है पोहा। बस इसमें सही मात्रा में चीजें डाल दियी जाएं। 

इसके अतिरिक्त पोहा बनाने में आसान, किसी भी  दुकान में आसानी से उपलब्ध होता है। तथा इस नाश्ते को ग़रीब से ग़रीब व्यक्ति भी बना सकता है। 

 दोस्तों अपने निजी जीवन के खान पान मे इतने आसानी से उपलब्ध हो जाने वाला पोहा इतना गुणकारी और आरोग्यदायी होगा यह आप ने सपने मे भी नहीं सोचा होगा। तो चलिए पोहा को आप अपने नास्ते मे पहली पसंद बनाए।  और अपनी राय को कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताना 

आशा करता हुँ की आप को Hindi Hints कि यह नाश्ते में पोहा खाने के फायदे | Benefits of Eating Poha for Breakfast in Hindi ज़रूर पसंद आयी होगी। यह महत्व पूर्ण जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करना। पोस्ट को ध्यान से पढ लिया इसलिए दिल से धन्यवाद! 

ये भी पढ़िए :

आरओ फिल्टर पानी सेहत को हानि

शाबूदाना शाखाहारी है या मांसाहारी?

भगवान कौन सी मांग 100% पूर्ण करता है?

सच्चे प्यार की 12 निशानियां 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ