Header Ads Widget

Ticker

50/recent/ticker-posts

ब्रायलर मुर्गी पालन कैसे करे? - How to do Broiler Poultry farming? in Hindi

ब्रायलर मुर्गी पालन कैसे करे? - How to do Broiler Poultry farming? in Hindi

Broiler Poultry farming के बिज़नेस आप आप बिना जानकारी के करेंगे तो पुरे १०० प्रतिशत नुकसान होने की संभावना है। यह मैं अपने अनुभव के आधार पर कह रहा हुँ। चुजे की खरीदी उसकी परवरिश और उसका मार्केट इन तीनों के ज्ञान के बिना आप यह व्यवसाय ना करे तो बेहतर। आज हम इसी Poultry farming व्यवसाय के बारे मे इस लेख मे खुली चर्चा करेंगे। 


How-to-do-Broiler-Poultry-farming-in-Hindi


मुर्गी पालन की जानकारी-Poultry farming Guide in hindi

दोस्तों मुर्गी पालन एक ऐसा बिज़नेस है जो आपको आसमान की बुलंदियों पर भी ले जा सकता है और सही ढंग नही किया तो हमे भिखारी भी बना सकता है। वह कैसे आप आगे स्टेप बाय स्टेप पढीये। 

मुर्गी पालन तैयारी

जिस किसी दोस्त को Poultry farming  करना है वह तो पहले यह दिमाग से निकाल दे वो इसे पार्ट टाइम जॉब या साइड बिज़नेस की तरह करना चाहता है। इस बिज़नेस मे स्वयं को पुरा समय और मेहनत लगाने की तैयारी हो तो ही उतरे यह मेरी पहली सलाह है हल्के मे ना ले। पैसा बहुत है तो नौकर चाकर के भरोसे बिल्कुल ना करे। पहले स्वयं करे और साथ मे सपोर्ट मे Manpower ले। अगर निवेश का पैसा कम है तो बेहतर होगा की परिवार के सदस्यों को काम मे लगाये। 

दूसरी बात मुर्गी पालन के लिए मैदान वाली जमिन खुद की हो अर्थात खुद का खेत हो। और जगह बिल्कुल समतल हो ताकी बारिश का पानी अंदर ना आयें। यह बिज़नेस गांव मे नहीं कर सकते उसके बहुत से कारण है। उनमें से एक मुर्गीयों के टट्टी की बदबू भी है। जिसे पड़ोसी सहन नही कर सकते। स्वयं की जो भी जगह हो वह रोड टच होना जरूरी है क्योंकि उत्पादन को लाने ले जाने के लिए बड़ी गाडी वहाँ तक पहुँच सके। 

तीसरी बात है पानी की उपलब्धता। जी हाँ बगैर पानी के यह बिज़नेस कर ही नही सकते। इतना ही नही पानी भी खुद का और Permanent होना चाहिए जिसे बाद मे मुर्गीयों की बैच पूर्ण होने तक बदल नही सकते वरना ब्रायलर मुर्गीयां इतनी नाज़ुक होती है की केवल पानी बदलने से बीमार होने लगती है। 

चौथी बात Broiler Poultry farming में 24 घंटे बिजली की आवश्यकता है। खासकर मुर्गी के चुजों के लिए बहुत जरूरी है। उनके लिए तापमान नियंत्रित रखने का Brooder का इंतज़ाम अगर बिजली पर आधारित है तो सर्दी के मौसम मे बिना बिजली के 10 मिनट भी नहीं चलेगा वरना चूजे गर्मी पाने के लिए एक के उपर एक बैठ जाते है और नीचे वाले मर जाते है। 

ये भी पढ़िए :

कम लागत के 10 टॉप बिज़नेस 

क्या Non-Veg खाना अच्छा है?

शाबूदाना शाखाहारी है या मांसाहारी? 

बेरोजगारी की समस्या 2021


मुर्गी पालन के लिए कुछ जरूरी आंकड़े

अंडों से निकलने के बाद बच्चे 40 ग्राम के होते है। और 6 हफ्तों मे उनकी बैच पूर्ण होती है अच्छी परवरिश अनुसार 1.5 किलो से 2.5 किलो तक उनका वजन भरता है। 

ब्रॉइलर फार्म के लिए शेड कैसे बनाएं? How to make shed for Broiler farm?

शेड की चौड़ाई 30 से 35 फिट और लंबाई इच्छा अनुसार हो। 

जाली वाली 2 साइट में जमिन से उपर 6 इंच की दीवार हो। 

शेड की साइड ऊंचाई 8 से 10 फुट बीच वाले खंबे 12 से 15 फुट और छत साइड से 3 फिट ज्यादा ताकी जाली को बारिश ना लगे। 

ब्रायलर के लिए जगह

1 से 7 दिन = 1 वर्ग फुट/3 चूज़े

8 से 14 दिन = 1 वर्ग फुट/2 चूज़े

15 दिन से 1 किलो वजन तक = 1 वर्ग फुट/1 चूज़ा

1 से 1.5 किलो वजन तक = 1.25 वर्ग फुट/1 चूज़ा

1.5 किलो वजन से उपर तक =1.5 वर्ग फुट/1 चूज़ा


चिकन फार्म में ब्रूडिंग-Brooding in chicken farm

चूजों को गर्मी के लिए 4 से 5 दिन ब्रुडिंग और सर्दी के मौसम मे 10 से 12 दिन तक आवश्यकता होती है।  ब्रुडिंग प्लेट पहले हफ्ते में 6 इंच उपर दूसरे हप्ते मे 10 से 12 इंच उपर उठाये। 

ब्रुडर का तापमान पहले हफ्ते मे 90F (फॅरानाइड) होना चाहिए उसके बाद हर हफ्ते 5F कम करते जाए 70F तक

मुर्गी के लिए दवाई

चूजों को पहले दिन पानी मे ग्लुकोज के साथ 5ml  विटामिन A,D एवं B और 12-15 ml बी कॉम्प्लेक्स प्रति 100 चूजों के हिसाब से 7 दिन तक दे। ग्लूकोज केवल पहले दिन दे। 

बाद मे बी कॉम्प्लेक्स या कैल्शियम युक्त दवा 10 ml प्रती 100 मुर्गी रोज़ दे सकते है। 

पहले 2 से 5 दिन तक Antibiotic दवा डाक्टर की सलाह से दे। 

5 या 6 दिन को रानी खेत का टीका आँख-नाक मे 1-1 बूँद 

14 या 15 दिन को गम्बोरी टिका IVD आँख-नाक मे 1-1 बूँद 

(टिप: सभी दवाई मौसम और डॉक्टर की सलाह अनुसार ही दे)


ब्रायलर मुर्गी को दाना कैसे खिलाये?-Broiler feed 

प्री स्टार्टर (Pre-starter feed)

0-10 दिन तक के चूजों के लिए

स्टार्टर (Starter feed) 

11-20 दिन के चूजों के लिए

फिनिशर (Finisher feed) 

21 दिन से मुर्गे के बिकने तक

कम से कम 3 पानी और 3 दाने के प्रत्येक 100 चूज़ों के लिए बर्तन होना बहुत ही ज़रूरी है।


ब्रायलर मुर्गी को पानी कैसे पिलाये-How to water Broiler chicken

Poultry farming  में मुर्गी 1 किलो दाना खाने पर 2 से 3 लीटर पानी पीती है। 

प्रती 100 मुर्गी की आयु x 2 लीटर पानी

हफ्ता 1x 2 लीटर= 2 लीटर 100 मुर्गी

हफ्ता 2x 2 लीटर= 4 लीटर 100 मुर्गी

हफ्ता 3x 2 लीटर= 6 लीटर 100 मुर्गी

हफ्ता 4x 2 लीटर= 8 लीटर 100 मुर्गी

हफ्ता 5x 2 लीटर= 10 लीटर 100 मुर्गी

हफ्ता 6x 2 लीटर= 12 लीटर 100 मुर्गी


ब्रायलर मुर्गी पालन सावधानियां-Broiler Poultry farming precautions in Hindi 

सर्दी के दिनों मे मुर्गी के चूजे शेड मे आने से 2-3 घंटे पहले ब्रुडिंग चालू करे उसके नीचे पीने का पानी भी पहले ही रख दे ता की वह भी संतुलित हो जाये। और  जितना हो सके डिलीवरी सुबह की समय करे क्योंकि शाम और रात मे ठंडी बढती है। 

Broiler Poultry farming के लिए शेड हमेशा दक्षिण-उत्तर दिशा मे जाली वाली साइड हो जिससे सीधी धुप अंदर आने का ख़तरा ना हो और हवा भी खिलती रहे।  जाली पर प्लास्टिक लगाकर सेड बंद करने और खोलने की व्यवस्था हो

बारिश के दिनों मे शेड मे आना-जाना कम करे तथा चुहे, बिल्ली आदी को शेड मे ना जाने दे। इनसान को शेड मे घूमने के लिए रबड के जुते रखे जिन्हे 3 प्रतिशत फोर्मलिन मे डुबो कर उपयोग करें। 

Poultry farming में पहली बैच 15-20 दिन की होने से पहले आपको दूसरी बैच की तैयारी करनी होगी अगर इसी अंतराल से 3 बैचेस चलाते रहने की क्षमता है तो ही यह बिज़नेस करे। वरना बहुत बार मार्केट भाव गिरने कारण नये उत्पादक एक झटके मे बुरी तरह कंगाल हो जाते है। मुर्गी का भाव प्रति क्विंटल के हिसाब से हर हफ्ते तय होता है। 

मर्गी चूजे (बच्चे) खरीदी सावधानी 

ब्रायलर मुर्गी की प्रजाति बेहद नाज़ुक होती है तो जाहिर है की उनके बच्चे भी नाज़ुक होंगे। वास्तविकता संकरीत अंडो से उनका उत्पादन मशीनों द्वारा विशिष्ट पोषक वातावरण मे किया जाता है। और जब वह वहां से बहार निकलते है तो आम वातावरण मे ज्यादा समय तक जिंदा नहीं रह पाते इसलिए हमेशा Broiler Poultry farming के लिए ब्रायलर मुर्गी के चूजें खरीदते समय थोडे महंगे होंगे लेकिन अच्छे Branded company से खरीदे जिनकी Death rate कम हो वरना भारी नुकसान उठाना पड सकता है। वैसे मेरे अनुभव अनुसार फ़ैक्टरी से फार्म तक के सफर मे ही चूजों की क्वालिटी का पता चल जाता है। हल्के ब्रँड वाले यातायात के समय रास्ते मे ही बहुत सारे मर जायेंगे। 

अगर चूजे 2 या 4 दिन मे मर गये तो नुकसान ज्यादा नहीं है लेकिन जब 300 या 400 ग्राम वजन के होने के बाद मरने लगे तो उनके साथ आपके मुर्गी फीड का भी नुकसान होगा इसलिए पोषक तापमान के साथ समय पर व्हॅक्सीन और आवश्यक दवाईयाँ दे।

ब्रॉइलर मुर्गी मार्केट-Broiler chicken market

अंत मे 6 हफ्तों के बाद मुर्गीयां बडी तेजी से दाना ग्रहण करने लगती है जिसका ख़र्चा उठाना नये लोगों के लिए लगभग नामुमकिन सा हो जाता है वो इसलिए की उचित वजन के बाद उनकी वजन बढ़ने की गती धीमी हो जाती है और दाना ज्यादा खाते है। 

कम भाव मे खरीदने के लिए व्यापारी इसी मजबूरी की ताक मे रहते है। और जब हम उन्हे ले जाने के लिए दिन पक्का करते है तो बहुत बार वह उस दिन नही आते क्योंकि वह चाहते है की मुर्गी भुखी रहे उसका पेट बिल्कुल खाली रहे। ताकी उसका वजन कम भरे और व्यापार मे फायदा हो। इसके विपरीत  वो कसाई को भर पेट खिलाकर बेचते है। 

आशा है भाइयों Hindi Hints मे आपको ब्रायलर मुर्गी पालन कैसे करे?- Broiler Poultry farming Kaise kare? Hindi इसके बारे में आवश्यक जानकारी मिली होगी। आप अपनी राय कमेंट बॉक्स मे जरूर लिखे और लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकी भारत के बेरोज़गार युवाओं को इस व्यवसाय के बारे मे पता चले। लेख को ध्यान से पढ़ने के लिये दिल से धन्यवाद!

ये भी पढ़िए :

पतंग कैसे उड़ाए?

Ifsc कोड और Cif नंबर क्या है? 

आधार PVC कार्ड  सस्ते मे  घर पर कैसे मंगाये?

ब्लू प्रिंट किसे कहते है?

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ